गोरखपुर/ शुक्रवार, २२ अक्‍तूबर/ UP election 2022: यूपी विधानसभा चुनाव का सर्वे करेगा डीडीयूजीयू सेल, इन सीटों पर होगा सर्वे

दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय के राजनीति विज्ञान विभाग की ओर से आयोजित तीन दिवसीय इलेक्शन सेल एंड इट्स स्कोप विषय पर कार्यशाला का समापन शुक्रवार को संवाद भवन में हुआ। अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रो राजेश सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालय में इलेक्शन सेल की स्थापना होगी। इसका संचालन राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र, विधि विभाग समेत अन्य विभागों के सहयोग से किया जाएगा।

दिवाली के कपड़ों पे 70% तक की छूट।



बताया कि इसे विद्यार्थी अपने शिक्षकों के मार्गदर्शन में चलाएंगे। ऐसी व्यवस्था बनाई जा रही है। सेल से पांच जेआरएफ स्कालर्स को जोड़ा जाएगा। जिन्हें 15-17 हजार हर महीने प्रति स्कॉलर भुगतान किया जाएगा। हर स्कॉलर को 3-3 इंटर्न यानी 15 इंटर्न दिए जाएंगे। 20 लोगों की टीम पहले चरण में गोरखपुर, अयोध्या और वाराणसी संसदीय क्षेत्र की कुल 8-8 यानी 24 विधानसभा में काम करेगी।

टीम की ओर से क्षेत्र में जाकर चुनावी क्षेत्र की भौगोलिक मैपिंग, इलेक्शन सर्वे, एग्जिट पोल, विभिन्न प्रकार के सर्वे का अध्ययन करेगी। टीम द्वारा चुनावी अर्थशास्त्र पर नजर रखने के साथ एक डेटा बेस तैयार किया जाएगा। सेल द्वारा चुनावी प्रबंधन पर चुनावी क्षेत्र के मुताबिक गहन रणनीति तैयार की जाएगी। साथ ही राजनीतिक पार्टियों को चुनावी रणनीति तैयार करने में मदद की जाएगी।
सेल द्वारा उत्तर प्रदेश विधान सभा चुनाव 2022 में प्रोग्राम शुरू किया जाएगा। सेल के सलाहकार बोर्ड में कौटिल्य स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी जीआईटीएएम यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद के प्रो मुकुल सक्सेना, अमरकंटक विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो श्रीप्रकाश मणि त्रिपाठी और सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार के कुलपति प्रो केएन सिंह होंगे।

हॉवर्ड कैनेडी स्कूल के प्रो स्टीव जार्डिंग को भी मार्गदर्शक मंडल में रखा जाएगा।  कार्यशाला के समन्वयक और विभागाध्यक्ष प्रो रूसी राम महानंदा ने आभार ज्ञापन किया। आयोजन सचिव प्रो विनीता पाठक ने स्वागत परिचय और कार्यशाला की रिपोर्ट प्रस्तुत की। संचालन जॉइंट सेक्रेटरी डॉ अमित कुमार उपाध्याय ने किया।

मुख्यमंत्री के हाथों उद्घाटन कराने की योजना
कुलपति ने बताया कि सेल का उद्घाटन मुख्यमंत्री के हाथों कराने की योजना है। कहा कि हर विभाग से ऐसे सेल का प्रस्ताव लाया जाए। जिसे विद्यार्थी चलाएं। पीएचडी स्कालर्स की भूमिका को और बढ़ाने की जरूरत है। इंदिरा गांधी जनजातीय विश्वविद्यालय अमरकंटक के कुलपति प्रो श्रीप्रकाश मणि त्रिपाठी ने कहा कि नई शिक्षा नीति रोजगार पर फोकस करती है। इलेक्शन सेल के निर्माण से विद्यार्थियों को रोजगार के अवसर सुलभ होंगे। विशिष्ट अतिथि के रूप में सेंट्रल यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ बिहार, गया के कुलपति प्रो केएन सिंह ने कहा कि गोरखपुर विश्वविद्यालय में इलेक्शन सेल की स्थापना एक नूतन प्रयोग है, जो देश के अन्य विश्वविद्यालयों के लिए भी नजीर बनेगा।


गोरखपुर की पल पल की ख़बरों के लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें

facebook.com/upkikhabarlive

सम्बंधित खबरें