अलीगढ़/ गुरुवार, २२ जुलाई/ अचलताल के पास के जर्जर भवन बन सकते हैं दुर्घटना का कारण

अचलताल में पानी भरने के बाद आसपास के जर्जर एवं गिरासू भवन कभी भी दुर्घटना का कारण बन सकते हैं। नगर निगम का कहना है कि 17 भवन स्वामियों को नोटिस दिए जाने के बावजूद लोग जान से खिलवाड़ कर रहे हैं।

बारिश के छाता पर 45% तक छूट प्राप्त करें।


मई 2021 के दूसरे पखवाड़े में प्राचीन अचलेश्वर महादेव मंदिर का एक हिस्सा ढहकर अचलताल में चला गया। संयोग सेवादार एवं उनके परिजन बाल-बाल बच गए थे। चार दिन से लगातार हो रहे बारिश के बाद अचलताल में पानी भर गया है।
मंगलवार को गिलहराज मंदिर के चबूतरा के नीचे का हिस्सा ढह गया था। अचलताल के दीवार एवं पास लगे ट्रांसफार्मर को भी नुकसान हुआ था। अचलताल में पानी भरने से आसपास के पुराने एवं जर्जर भवनों पर खतरा मंडरा रहा है।
अचलेश्वर महादेव मंदिर का एक हिस्सा ढहने के बाद नगर निगम द्वारा 17 भवन स्वामियों को नोटिस जारी किया गया था, जिसमें हिंदू इंटर कॉलेज, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद एवं विश्व हिंदू परिषद कार्यालय, अचलताल पुलिस चौकी आदि भी शामिल थे। दो महीने का वक्त गुजरने के बावजूद भवन स्वामी एवं नगर निगम द्वारा कोई कदम नहीं उठाया गया है। पुराने और जर्जर भवन कभी भी दुघर्टना का कारण बन सकते हैं।

अलीगढ़ की पल पल की ख़बरों के लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें

facebook.com/upkikhabarlive

सम्बंधित खबरें